हमारे जीवन में होने वाली कुछ सच्ची और अनमोल बातें – गौतम बुद्ध

हमारे जीवन में होने वाली कुछ सच्ची और अनमोल बातें – गौतम बुद्ध

समय कहता है योजना बना, भविष्य कहता है मुझे जीत, सुंदरता कहती है मुझे प्यार कर और ईश्वर साधारण शब्दों में कहता है की खुद पर विश्वास कर और साथ में कर्म करता चल। 

हमारे जीवन में होने वाली कुछ सच्ची और अनमोल बातें - गौतम बुद्ध
हमारे जीवन में होने वाली कुछ सच्ची और अनमोल बातें – गौतम बुद्ध


एक खास बात बिना समझे कभी भी किसी को पसंद मत करो। और समझे बिना किसी को खो मत दो।

बहुत से लोग जबान के कड़वे होते है मगर दिल के नहीं और कई बार फ़िक्र दिल में होती है और जुबान में नहीं और कई बार गुस्सा दिल में होता है जुबान में नहीं। 

अगर आप समस्याओ में उलझे है तो कैसे बचे – गौतम बुद्ध

शब्द और दिमाग से दुनिया जीती जाती है पर दिल तो आज भी दिल से ही जीता जाता है। 

चित्र ही नहीं चरित्र भी सूंदर रखो, भवन ही नहीं भावना भी सूंदर रखो,साधन ही नहीं साधना भी सूंदर रखो और  दृष्टि ही नहीं दृष्टीकोण भी सुन्दर रखो। 

सम्बन्धो को समय दो वरना एक दिन ऐसा आएगा की समय तो होगा मगर सम्बन्ध नहीं होंगे। 

हम हार जीत सफलता, असफलता में इतना उलझ गए है की जिंदगी जीना भूल गए है। जिंदगी में अगर सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है तो वो है खुद जिंदगी। खुलकर जिओ। 

आपका विश्वास ही आपका भाग्य निर्धारित करता है। – गौतम बुद्ध

कौन जाने क्या पाप क्या पुन्य बस किसी का दिल ना दुखे। अपने स्वार्थ के लिया बाकि सब कुदरत पर छोड़ दो। 

शरीर जल से पवित्र होता है मन सत्य से बुध्दि ज्ञान से और आत्मा धर्म से। धार्मिक वो है जो भीतर का अवलोकन करता है। जो दुसरो को समझता है। दुसरो का सम्मान करता है। जिसके मन में दुसरो को दुःख देने का जरा भी भाव न हो वही धार्मिक है। 

जीवन में किसी को रुलाकर हवन भी करवाओगे तो कोई फायदा नहीं होगा। अगर हर रोज एक इंसान के मुँह पर भी आपकी वजह से मुस्कराहट आ जाती है तो आपको बत्ती भी जलाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। 

बेर कैसे थे ये सबरी से पूछो अगर श्रीराम से पूछोगे तो वो कहेगा की मीठे ही थे। जहर का सवाद कैसा था मीरा से या फिर भगवान् शिव से पूछोगे तो अमृत ही कहेंगे। यही तो है सनेह, सम्मान और प्रेम की परकाष्ठा है। 

अपने आत्मविश्वास शक्ति को कैसे बढ़ाएं | आत्म विश्वास की अद्भुत शक्ति

किसी ने पूछा जीवन क्या है। एक उत्तम उत्तर, जब मनुष्य जन्म लेता है तो उसके पास सांसे तो होती है। मगर कोई नाम नहीं होता। लेकिन जब मनुष्य की मृत्यु होती है तो उसके पास नाम तो होता है मगर सांसे नहीं होती। इसी सांसों और नाम की बीच की यात्रा को जीवन कहते है। 

जानवर में इच्छा और फ़रिश्ते में अकल होती है लेकिन इंसान में ये दोनों होते है। अगर वो इच्छा को दबाले तो फरिश्ता,अगर अकल को दबाले तो जानवर बन जाता है। 

दुनिया के दो असंभव कार्य माँ की ममता और पिता का क्षमता का अंदाज़ा लगा पाना। पसीने में माँ डूबती है, धुप में पीता जलता है तब कही जाकर बच्चा लाड प्यार से पलता है। 


कही हस्ते हुए छोड़ देती है जिंदगी, तो कहीं रोते हुए छोड़ देती है जिंदगी। ना पूर्ण विराम सुख में ना पूर्ण विराम दुःख में बस जहां देखो अल्पविराम पिछोड देती है जिंदगी। पर जब कोई साथ और हाथ दोनों छोड़ देता है तब तब कुदरत कोई ना कोई ऊँगली पकड़ने वाला भेज ही देता है। इसी का नाम जिंदगी है। 

बस मुस्कुराते आगे बढ़ते चलो, सबका ख्याल रखो पर साथ में अपना भी ख्याल रखो। हमेशा मुस्कुराते रहो कभी अपने लिए और कभी अपनों के लिए। आज की हमारी ये कहानी कैसी लगी कमेंट बॉक्स में जरूर लिखना।

अगर आप इस तरह की कहानी वीडियो के रूप में देखना चाहते हो तो हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब कर सकते हो। यूट्यूब चैनल लिंक निचे दिया है

यूट्यूब चैनल लिंक – https://www.youtube.com/channel/UCNc4L80YvvkvqS2XEmC9aTQ

फेसबुक पेज लिंक –  https://www.facebook.com/Gautambuddhaindia/

Leave a Comment