अगर कोई व्यक्ति आपको बुरा भला कहे तो क्या करे – गौतम बुद्ध

अगर कोई व्यक्ति आपके बारे में भला बुरा कहे तो क्या करे की उसको खुद ही एहसास हो की वह गलत है

अगर कोई व्यक्ति आपको बुरा भला कहे तो क्या करे, या फिर अपशब्द कहे तो आपको क्या करना चाहिए। और इस तरह के व्यक्ति के साथ कैसा बर्ताव करे। जो आपके बारे में अच्छा नहीं सोचता। एक छोटी सी कहानी भगवान् गौतम बुद्ध के जीवन से।

अगर कोई व्यक्ति आपको बुरा भला कहे तो क्या करे - गौतम बुद्ध
अगर कोई व्यक्ति आपको बुरा भला कहे तो क्या करे – गौतम बुद्ध

जो आपको समझाएगी की उन लोगो के साथ क्या करे। जो आपको भीतर से पसंद नहीं करते। एक बार बुद्ध और उनके कुछ भिक्षुक एक गांव में भिक्षाटन के लिए प्रवेश करते है। बुद्ध के आने से पहले ही गांव के सभी लोग मिलकर ये योजना बनाते है।

की गांव का कोई भी व्यक्ति बुद्ध व् बुद्ध के भिक्षु को भिक्षा नहीं देगा। बुद्ध के भिक्षु जिस भी द्वार पर भिक्षा मांगते उन्हें उस द्वार से खाली ही लौटना पड़ता है। उसके बाद बुद्ध और उनके भिक्षुक गांव में आगे बढ़ते है। किसी भी घर से बुद्ध के किसी भी भिक्षु को भिक्षा नहीं मिलती।

हमारे जीवन में होने वाली कुछ सच्ची और अनमोल बातें – गौतम बुद्ध

उस गांव का वातावरण देख कर बुद्ध और उनके भिक्षु ये समझ जाते है की इस गांव का कोई भी व्यक्ति उन्हें भिक्षा नहीं देना चाहता। इसलिए बुद्ध और उनके भिक्षु उस गांव से प्रस्थान करने लगते है। इतने में ही एक व्यक्ति बुद्ध के पास आता है।

और कहता है की रुको कहा जा रहे हो भिक्षा नहीं चाहिए क्या। बुद्ध उस व्यक्ति की तरफ मुस्कुराकर देखते है। परन्तु वह व्यक्ति क्रोध से भरा होता है और वो व्यक्ति बुद्ध से कहता है की तुम पाखंडी हो, तुम युवाओ को फसाकर अपना भिक्षु बनाते हो।

अगर आप समस्याओ में उलझे है तो कैसे बचे – गौतम बुद्ध

तुम प्रेम और करुणा की बात करते हो क्या तुम्हारे अंदर करुणा है। वह व्यक्ति बुद्ध का बहुत अपमान करता है। ना तो बुद्ध और ना ही बुद्ध का भिक्षुक एक भी शब्द अपने मुख से निकालते है। यह देखकर वह व्यक्ति थोड़ा आश्चर्य चकित होता है।

बुद्ध उस व्यक्ति से कहते है की मित्र तुम मेरे एक पर्शन का उत्तर दोगे। वह व्यक्ति बुद्ध से कहता है की पूछो क्या पूछना चाहते हो तुम। बुद्ध कहते है की मित्र अगर कोई व्यक्ति तुम्हारे लिए उपहार लाये और तुम उस उपहार को लेने से मना कर दो। वह उपहार किसके पास रहेगा।

वो व्यक्ति कहता है की जो व्यक्ति मेरे लिए उपहार लेकर आया है उसके पास ही रहेगा। बुद्ध कहते है की आपने जो भी गालिया मुझे दी जो भी अपशब्द आपने मुझे बोले मै उनको स्वीकारता ही नहीं हूँ। तो तुम बताओ वे किसके पास रह गए।

आपका विश्वास ही आपका भाग्य निर्धारित करता है। – गौतम बुद्ध

बुद्ध की बात सुनकर वह व्यक्ति अंदर से पिंघल जाता है और बुद्ध के चरणों में गिर पड़ता है। और कहता है मुझे क्षमा करे बुद्ध। मेरे अंदर से आवाज तो आ रही थी की मै कुछ गलत कर रहा हूँ। परन्तु लोगो के बहकावे में आकर अपने पुराने विस्वासो के कारण मै आपको बुरा भला कहे जा रहा था।

लेकिन आपने मेरे किसी भी अपशब्द का उत्तर अपशब्द में नहीं दिया। अपशब्दों के बदले में ऐसी करुणा की बारिश ऐसा मनुष्य मैंने पहली बार देखा है। जो लोग मुझे सुन रहे है उनके लिए जरुरी बात। बुद्ध कहते है मै स्वीकार ही नहीं करता।

पर ज्यादातर लोग अस्वीकार ही नहीं कर पाते। वो क्या करे। लोगो की बातों का उन पर असर हो जाता है। और उनको बाद में पता चलता है। लोगो के अपशब्दों से उनको क्रोध आ जाता है। और उन्हें बाद में पता चलता है। वो लोग क्या करे जो अस्वीकार नहीं कर सकते।

अपने आत्मविश्वास शक्ति को कैसे बढ़ाएं | आत्म विश्वास की अद्भुत शक्ति

ऐसा नहीं था की लोगो की बातो का असर बुद्ध पर नहीं होता था। जब सिद्धार्थ बुद्ध नहीं हुए थे तब लोगो की बाते उन्हें दुःख भी पहुँचाती थी। और खुश भी करती थी। तो अभी आप अस्वीकार नहीं कर सकते। पर एक काम जो आप कर सकते है।

वो है की आप उन लोगो से अलग हो सकते है। जो लोग आपके बारे में अच्छा नहीं सोचते। अब आप कहोगे की वो हमारे अपने ही हुए तो हम उनसे कैसे अलग होंगे। यहाँ पर अलग होने का मतलब फिज़िकली नहीं है सिर्फ मेंटली है। आप अन्दर से उन लोगो से अलग हो जाये जो लोग आपके बारे में अच्छा नहीं सोचते।

फिर मिलेंगे दोस्तों एक और नई कहानी के साथ तब तक अपना ख्याल रखे और हमेशा मुस्कुराते रहिये। आज की हमारी ये कहानी कैसी लगी कमेंट बॉक्स में जरूर लिखना।

अगर आप इस तरह की कहानी वीडियो के रूप में देखना चाहते हो तो हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब कर सकते हो। यूट्यूब चैनल लिंक निचे दिया है

यूट्यूब चैनल लिंक – https://www.youtube.com/channel/UCNc4L80YvvkvqS2XEmC9aTQ

फेसबुक पेज लिंक –  https://www.facebook.com/Gautambuddhaindia/

Leave a Comment